myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

महिलाओं में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ना समस्या की बात नहीं है। लेकिन पुरूषों के साथ ऐसा नहीं है। यदि पुरूषों में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ जाए, तो यह उनके लिए परेशानी पैदा कर सकता है। निश्चित रूप से आप जानना चाहेंगे कि क्या वाकई पुरूषों में भी एस्ट्रोजेन होता है? बिल्कुल होता है। पुरूष का शरीर भी एस्ट्रोजेन को बनाता है। शोधों से पता चलता है कि पुरूषों में टेस्टोस्टेरोन को नियंत्रित करने, मस्तिष्क कार्यप्रणाली, हड्डी, त्वचा, कार्डियोवस्कुलर फंक्सशन, कोलेस्टरोल का स्तर और सेक्सुअल फंक्शन के लिए एस्ट्रोजन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इसके अनियंत्रित होने से उन्हें कई तरह की समस्या हो सकती है। खासकर एस्ट्रोजन के बढ़ने से। इसलिए पुरूषों के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि उनका एस्ट्रोजन स्तर बढ़ा तो नहीं है? एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने पर पुरूषों में कुछ लक्षण नजर आ सकते ते हैं। जानिए, इनके बारे में।

(और पढ़ें - एस्ट्रोजन स्तर बढ़ने के लक्षण)

प्रजनन क्षमता में कमी

स्वस्थ शुक्राणु के लिए एस्ट्रोजेन आंशिक रूप से जिम्मेदार होता है। जब एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ जाता है, तो शुक्राणु का स्तर गिर सकता है। नतीजतन पुरूषों में इनफर्टिलिटी बढ़ सकती है। इसका मतलब है कि पुरुष में पिता बनने की उम्मीद कम हो जाती है। अत: एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने पर पुरुषों को जल्द अपना इलाज करवाना चाहिए।

(और पढ़ें - बांझपन के घरेलू उपाय)

गाइनेकोमैस्टिया

एस्ट्रोजेन के बढ़ने की वजह से पुरूषों के स्तनों के ऊतक बढ़ने लगते हैं। मतलब यह कि जिन पुरूषों में एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ जाता है, उन्हें गाइनेकोमैस्टिया हो सकता है। इसमें उनके स्तन का आकार बढ़ने लगता है। सामान्यत: इसे दवा की मदद से ठीक किया जा सकता है। जरुरी होने पर डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह भी दे सकते हैं।

नपुंसकता

जिन पुरूषों में एस्ट्रोजेन का स्तर कम होता है, उनमें नपुंसकता बढ़ने लगती है। नपुंसकता जिसे अंग्रेजी में इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहते हैं, एक ऐसी समस्या जिसमें पुरुषों द्वारा यौन संबंध बनाने के लिए लिंग में उत्तेजना पाने में असमर्थ हो जाते हैं। लिंग में उत्तेजना बढ़ाने के लिए टेस्टोस्टेरोन का स्तर ज्यादा और एस्ट्रोजेन का स्तर कम होना चाहिए। यह पुरूषों के लिए गंभीर समस्या है। इस समस्या से निपटने के लिए उन्हें डाॅक्टर से संपर्क करना चाहिए।

(और पढ़ें - नपुंसकता के लिए योग)

गलत प्रतिक्रिया करना

यदि किसी पुरूष के शरीर में एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ जाता है, तब वह गलत प्रतिक्रिया करने लग सकता है, उसका मस्तिष्क कंफ्यूज हो जाता है। यहां तक कि टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में काफी ज्यादा गिरावट आ जाती है। ऐसी स्थिति में एस्ट्रोजेन का स्तर काफी ज्यादा बढ़ जाता है और उसका टेस्टोस्टेरोन पर प्रभुत्व बनने लगता है।

उच्च एस्ट्रोजेन के लिए उपचार

  • जिन पुरूषों का एस्ट्रोजेन स्तर बढ़ ररहा है, उन्हें निम्न चीजों को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए जैसे अलसी के बीज। इससे एस्ट्रोजेन का स्तर घटता है। सब्जियां जैसे ब्रोकली, पत्ता गोभी, फूलगोभी, मशरूम, साबुत अनाज
  • खानपान के साथ-साथ अपने वजन को भी नियंत्रित रखें। मोटे पुरूषों में एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि फैट सेल्स अतिरिक्त एस्ट्रोजेन का निर्माण करते हैं।
  • अगर दवाई खाने की वजह से एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ रहा है, तो इस संबंध में डाॅक्टर से संपर्क कर वैकल्पिक इलाज की सलाह लें। डाॅक्टर आपको एस्ट्रोजेन के स्तर को कम करने वाली दवा दे सकते हैं।

आपको जानकर आश्चर्य हो सकता है कि मेनोपाॅज हो चुकी महिलाओं की तुलना में उसी उम्र के पुरूषों में एस्ट्रोजेन का स्तर ज्यादा होता है। जबकि मेनोपाॅज होने के बाद महिलाओं में एस्ट्रोजेन का स्तर कम हो जाता है। दरअसल पुरुषों में बड़ी उम्र में एरोमाटेज बढ़ने लगता है। यह एक एंजाइम है जो टेस्टोस्टेरोन को एस्ट्रोजेन में बदलता है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
अभी 16 डॉक्टर ऑनलाइन हैं ।