myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

व्यस्त जीवनशैली, अनियमित नींद, परिवार का दबाव और अस्वस्थ आहार- आज के जमाने के भारतीय पुरूष की जिंदगी में बहुत कुछ चल रहा है।

35 साल की उम्र पार करने के बाद पुरूषों को अपने शरीर का खास ख्याल रखना चाहिए। इसलिए अपने तन और मन को हर समय स्वस्थ रखने के लिए यह जरूरी है कि वे साल में दो बार अपना रूटीन चेकअप जरूर करवाएं।

लेकिन 35 साल की उम्र पार कर चुके पुरुषों को अपने स्वास्थ्य से संबंधित किन चीजों के बारे में जरूर सोचना चाहिए? यहां हम आपको कुछ ऐसे जरूरी सवाल बता रहे हैं, जो चेकअप के दौरान डाॅक्टर से जरूर पूछें।

(और पढ़ें - पुरुषों के यौन रोग के प्रकार)

1. मैं रात को अच्छी तरह सो नहीं पाता। क्या ऐसा तनाव की वजह से है?

तनाव, नकारात्मक रूप से आपके शरीर को प्रभावित करता है। क्या आप नियमित रूप से नींद के बजाय काम को तरजीह देते हैं? यह तनाव का पहला संकेत हो सकता है। नींद की कमी की वजह से तनाव हो सकता है और दुर्भाग्यवश यह दुष्चक्र में बदल जाता है। तनाव के उच्च स्तर की वजह से हृदय रोगों के जोखिम बढ़ सकते हैं, खासकर इस उम्र में।

अगर आप अनियमित और व्यस्त जिंदगी जी रहे हैं, तो यह सलाह दी जाती है कि नियमित अपने रूटीन को चेक करें और अपनी जिंदगी में कुछ छोटे-छोटे बदलाव करें ताकि तनाव के स्तर को पूरी सक्रियता के साथ कम कर सकें। डाॅक्टर से संपर्क करें और वह आपकी मेडिकल हिस्ट्री और मौजूदा डाइट के आधार पर जरूरी बदलाव करने से संबंधित सलाह देंगे।

इस दौरान, अपनी जिंदगी में कुछ सामान्य बदलाव करना न भूलें जैसे धूम्रपान न करें, शराब न पीएं, संतुलित आहार समय पर खाएं, लभग 30 मिनट तक रोजाना एक्सरसाइज जरूर करें।

(और पढ़ें - पुरुषों को हो सकती हैं ये 4 खतरनाक बीमारियां)

2. मुझे यौनशक्ति में कमी महसूस होती है। क्या ऐसा मेरी उम्र की वजह से है?

पुरूष और महिलाएं, दोनों ही शारीरिक बदलाव से गुजरते हैं। यह पूरी तरह सामान्य है। बहरहाल अगर आपको यौनशक्ति में लगातार कमी महसूस होती है, तो बेहतर है कि एक बार टेस्टेस्टेरोन स्तर को टेस्ट कराएं।

अगर परिणाम सामान्य आते हैं, तो डाॅक्टर आपको जीवनशैली और खानपान में कुछ बदलाव करने की सलाह दे सकते हैं। लेकिन अगर यह नपुंसकता (इरेक्टाइल डिस्फंक्शन) है, तो डाॅक्टर आपको कुछ निश्चित समयवधि के लिए इलाज की सलाह दे सकते हैं।

(और पढ़ें - सेक्स पावर कैसे बढ़ाएं)

3. मेरे परिवार में पहले भी हार्ट अटैक आ चुका है। क्या मुझे भी इसके होने का जोखिम हो सकता है?

हृदय की स्थिति में परिवार का इतिहास बहुत मायने रखता है। इसके साथ ही हाइपरटेंशन, तनाव, धूम्रपान, कैफीन का अत्यधित सेवन और एक्सरसाइज की कमी, हाई कोलेस्ट्रॉल, अचानक वजन बढ़ना, पेट की चर्बी चारों ओर लटकना दिल की संभावित बीमारी का पहला संकेत है।

स्वस्थ हृदय के लिए अपनी डाइट बेहतर करें, साबुत अनाज, ताजा सब्जियां और फल खानपान में शामिल करें, जंक फूड से दूर रहें और नियमित एक्सरसाइज करें। अगर आपको असहज महसूस हो रहा है, सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो डाॅक्टर से मिलें और हार्ट अटैक से खुद को बचाएं।

(और पढ़ें - हार्ट अटैक का कारण)

4. मुझे थका हुआ और कमजोर महसूस करता हैं। ये क्या हो सकता है?

भारत में दस में से एक व्यक्ति अपनी जिंदगी में कभी न कभी अवसाद के दौर से जरूर गुजरता है। और इसे स्वीकार करना कोई शर्म की बात नहीं है। थकान, सामान्य दिनों की तुलना में कम ऊर्जा महसूस करने को लेकर बात करें और इसके पीछे क्या वजह है, यह जानने की कोशिश करें। अगर आप अवसाद के दौर से गुजर रहे हैं, तो इससे आपको अन्य शारीरिक समस्याएं भी हो सकती हैं जैसे हाई बीपी, हृदय रोग और यहां तक कि स्ट्रोक भी।

अवसाद से निपटने के लिए दवाई, एक्सरसाइज, थेरेपी और मेडिटेशन जैसे कुछ तरीके आजमा सकते हैं। शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए मानसिक रूप से स्वस्थ रहना जरूरी है और सबसे अच्छा तरीका आपके परिवार और डाॅक्टर से इस संबंध में बात करना है।

(और पढ़ें - थकान दूर करने के लिए क्या खाएं)

5. में मैं ओवरवेट नहीं हूं। सही वजन क्या है, जिसे मुझे बनाए रखना चाहिए?

सही वजन को बनाए रखना मुश्किल हो सकता है, खासकर मौजूदा जीवनशैली के साथ। आपके मापदंडों जैसे कद, वजन के आधार पर डाॅक्टर बताएंगे कि आपको वजन कम करने, बढ़ाने या फिर मौजूदा वजन को बनाए रखने की जरूरत है। 

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय तरीके)

6. मैं अपने स्वास्थ्य का सही ध्यान कैसे रख सकता हूं?

इस उम्र में अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने के प्रति आप जागरूक हुए हैं, यह बहुत अच्छी शुरूआत है। इसकी शुरूआत करने के लिए कुछ आसान तरीके हैं-

  • अपनी डाइट में ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियां शामिल करें
  • सोने की समयवधि को नियमित करें
  • अपनी डेली शिड्यूल में एक्सरसाइज रूटीन जैसे दौड़ना, योगा, ध्यान लगाना या जो आपको पसंद हो, उन्हें शामिल करें
  • जंक फूड, वसायुक्त आहार से दूर रहें और हमेशा समय से खाना खाएं
  • अगर आप इसे और आगे ले जाना चाहते हैं, तो डाॅक्टर से मिलें और पता लगाएं कि आपको अपनी डाइट, आदत, जीवनशैली और मेडिकल हिस्ट्री के आधार पर किस तरह के बदलाव करने चाहिए। डाॅक्टर कुछ टेस्ट के लिए कहेंगे और आपके स्वास्थ्य से संबंधित सामान्य प्रतिक्रिया देंगे, जिसके बाद वह आवश्यक सुझाव देंगे।

7. मुझे किस उम्र में प्रोस्टेट कैंसर के लिए जांच करवानी चाहिए?

प्रोस्टेट कैंसर बहुत धीमी गति से विकास करने वाला कैंसर है और जिन पुरूषों के परिवार में इसका इतिहास हो, उन्हें इसके संकेत और लक्षणों के प्रति सावधान रहना चाहिए। डाॅक्टर कुछ जांच की सलाह देंगे जिसके बाद यह पता चलेगा कि आपमें कैंसर विकसित होगा या नहीं।

दर्द, असहजता, अनियमितता या जो भी आपके दिमाग में घूम रहा है, उसे डाॅक्टर से जरूर पूछें। ध्यान रखें कि डाॅक्टर से ईमानदारी से बातचीत करने से आप किसी भी बीमारी के खतरे को पहले से रोक सकते हैं जिससे आप आसानी से स्वस्थ और खुश रह सकते हैं।

यह जरूरी है कि आप अपने दिमाग और शरीर के बीच संतुलन बनाए रखें और इसका सबसे अच्छा तरीका इस संबंध में जागरूकता। आपके शरीर में क्या हो रहा है, इस बारे में सारी बातें जानें और उसी के आधार पर प्रतिक्रिया करें। आप किसी भी तरह की मदद के लिए डाॅक्टर के पास जा सकते हैं, समस्या कितनी बड़ी है या कितनी छोटी है या कोई समस्या है भी या नहीं, ये सब बातें मायने नहीं रखतीं।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
अभी 13 डॉक्टर ऑनलाइन हैं ।