myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) क्या है?

मनोग्रसित बाध्यता विकार (Obsessive Compulsive Disorder/ ओसीडी) में व्यक्ति को अनुचित विचार आने लगते हैं और डर की आशंकाएं होने लगती हैं। इसके साथ ही यदि आप एक ही विचार को सोचने पर बार-बार विवश हो रहें हैं, तो भी आपको मनोग्रसित बाध्यता विकार यानि ओसीडी (OCD) हो सकता है। 

इस विकार को जुनूनी-बाध्यकारी विकार भी कहा जाता है। ओसीडी होने पर आपको मालूम ही नहीं होता कि आपके दिमाग में जो विचार आ रहें हैं वो सही भी हैं या नहीं। इस दौरान दिमाग में आने वाले विचारों को अनदेखा करने और रोकने के लिए आप प्रयास कर सकते है, लेकिन यह प्रयास केवल आपके तनाव व चिंता को और बढ़ा देते हैं। ऐसा होने पर आप खुद को तनाव पूर्ण महसूस करते हुए एक ही कार्य को बार-बार करने के लिए बाध्य हो जाते हैं।

(और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)

ओसीडी(OCD) से पीड़ित व्यक्ति के विचार मुख्यतः रोगाणु द्वारा दूषित होने के डर पर ही केंद्रित हो जाती है। ऐसे में रोगाणुओं के डर को कम करने के लिए व्यक्ति अपने हाथों को मजबूती से बार-बार तब तक धोते है, जब तक ये छिल न जाए या इनसे खून न आने लगे। इन अंशाकित विचारों से बचने का प्रयास करने के बावजूद ये विचार आपको बार-बार आने लगते हैं। इस तरह का व्यवहार करना एक ओसीडी से पीड़ित व्यक्ति की विशेषता को बताता है।

(और पढ़ें - मानसिक रोग का इलाज)

  1. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के लक्षण - Obsessive-Compulsive Disorder Symptoms in Hindi
  2. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के कारण - Obsessive-Compulsive Disorder Causes in Hindi
  3. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) से बचाव - Prevention of Obsessive-Compulsive Disorder in Hindi
  4. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) का परीक्षण - Diagnosis of Obsessive-Compulsive Disorder in Hindi
  5. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) का इलाज - Obsessive-Compulsive Disorder Treatment in Hindi
  6. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के जोखिम और जटिलताएं - Obsessive-Compulsive Disorder Risks & Complications in Hindi
  7. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) की दवा - Medicines for Obsessive Compulsive Disorder in Hindi
  8. ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के डॉक्टर

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के लक्षण - Obsessive-Compulsive Disorder Symptoms in Hindi

मनोग्रसित बाध्यता विकार(ओसीडी) के क्या लक्षण होते हैं ?

ओसीडी के लक्षण प्रत्येक व्यक्ति में भिन्न होते हैं। यह लक्षण निम्नलिखित हैं -

जुनूनी विचार-

  • शरीर की गंदगी या कीटाणुओं का डर और शरीर की दुर्गन्ध/स्राव या उचित कार्य के प्रति अतिसंवेदनशीलता।
  • क्रम, स्वच्छता और सटीकता के लिए संवेदनशीलता। (और पढ़ें - अल्जाइमर रोग क्या है)
  • बुरे विचारों को सोचने या कुछ शर्मिंदगी वाला कार्य करने का डर।
  • लगातार कुछ ध्वनियों, शब्दों या संख्याओं को सोचना या गिनती के साथ मानसनिक व्यस्तता।
  • अनुमोदन या माफी माँगने की आवश्यकता लगना।
  • इस भय में रहना कि कुछ भयानक होगा या अपने आप को या किसी और को नुकसान पहुंचाने का डर होना।

(और पढ़ें - अल्जाइमर रोग के लिए आहार)

बाध्यकारी व्यवहार-

  • बार-बार हाथ धोना, नहाना या दांतों को साफ़ करना और शरीर की दुर्गन्ध को छिपाने के लिए वस्तुओं का अधिक उपयोग करना।
  • वस्तुओं को बार-बार साफ़ करना, सीधा करना और क्रमबद्ध करना।
  • कपड़ों पर बार-बार ज़िप और बटन की जांच करना।
  • लाइटों, उपकरणों या दरवाजों की बार-बार जांच करना, यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे बंद हैं या नहीं।
  • कुछ शारीरिक गतिविधियों को दोहराना, जैसे कुर्सी पर बैठकर उठना।
  • वस्तुएं एकत्रित करना, जैसे समाचार पत्र।
  • बार-बार एक ही सवाल पूछना या एक ही बात कहना।
  • सार्वजनिक स्थानों से बचना या अपने आप को या दूसरों को नुकसान पहुंचाने के लिए अत्यधिक कार्य करना।
  • धार्मिक रस्में करना, जैसे कि निरंतर प्रार्थना करना।

(और पढ़ें - अतिसक्रियता विकार के लक्षण)

ओसीडी से ग्रस्त बच्चों में यह आम है कि जब तक उन्हें सही न लगे, तब तक वह कार्यों को दोहराते रहते हैं। जैसे दरवाजे से बार-बार अंदर बाहर जाना, सीढ़ियों में ऊपर नीचे जाना, चीजों को दाएं हाथ से और फिर बाएं हाथ से छूना या स्कूल के कार्य को बार-बार करना।

अगर आपको ओसीडी के साथ डिप्रेशन भी है, तो आपको आत्मघाती भावनाएं आ सकती हैं। आत्महत्या के चेतावनी संकेतों में मौत के बारे में बात करना या संपत्ति को अपने से दूर करना शामिल है।

(और पढ़ें - याददाश्त कमजोर होने के कारण)

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के कारण - Obsessive-Compulsive Disorder Causes in Hindi

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) क्यों होता है?

ओसीडी के कारण अभी पूरी तरह से पता नहीं लग पाए हैं। लेकिन ऐसा माना जाता है कि ओसीडी होने के निम्नलिखित कारक हो सकते हैं -

  • जैविक कारक -
    ओसीडी आपके शरीर में प्राकृतिक रासायनिक प्रक्रिया या मस्तिष्क के कार्यों में बदलाव का परिणाम हो सकता है।
    (और पढ़ें - कमजोर याददाश्त के लिए योग)
     
  • अनुवांशिकी -
    ओसीडी होने का एक कारक अनुवांशिकता हो सकती है। लेकिन अभी तक ऐसा कोई विशिष्ट जीन (gene) पहचाना नहीं गया है जिससे ओसीडी का सीधा सम्बन्ध हो।
    (और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के उपाय)
     
  • वातावरण -
    संक्रमण जैसे कुछ पर्यावरणीय कारकों को ओसीडी का कारण माना जाता है, लेकिन अभी अधिक शोध की आवश्यकता है।
    (और पढ़ें - दिमाग तेज़ कैसे करें)

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) के जोखिम कारक क्या हैं?

ओसीडी के निम्नलिखित जोखिम कारक होते हैं -

  • परिवार का इतिहास - माता-पिता या परिवार के अन्य सदस्यों को यह विकार होने से आपको ओसीडी विकसित होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • तनावपूर्ण जीवन घटनाएं - यदि आप दर्दनाक या तनावपूर्ण घटनाओं का अनुभव करते हैं, तो आपको ओसीडी होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • अन्य मानसिक स्वास्थ्य विकार - ओसीडी अन्य मानसिक स्वास्थ्य संबंधी विकारों से संबंधित हो सकता है, जैसे चिंता, डिप्रेशन, मादक द्रव्यों का सेवन या टिक डिसऑर्डर्स (Tic disorders)।

(और पढ़ें - चिंता दूर करने के योग)

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) से बचाव - Prevention of Obsessive-Compulsive Disorder in Hindi

ओसीडी होने से कैसे रोक सकते हैं?

आप शुरू होने से पहले ओसीडी को रोक नहीं सकते। इसके लक्षणों को फिर से आने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है चिकित्सा लेना और सभी दवाइयों को निर्धारित मात्रा और निर्धारित तरीके से लेना।

(और पढ़ें - दवाइयों की जानकारी)

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) का परीक्षण - Diagnosis of Obsessive-Compulsive Disorder in Hindi

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) का निदान कैसे होता है ?

ओसीडी का निदान करने में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं -

  • शारीरिक परीक्षण -
    जो समस्याएं आपमें लक्षण पैदा कर रहीं हैं, उनको जानने के लिए शारीरिक परिक्षण किया जा सकता है।
     
  • लैब परीक्षण -
    लैब परिक्षण में निम्नलिखित टेस्ट शामिल हो सकते हैं - 

(और पढ़ें - लैब टेस्ट लिस्ट)

  • मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन -
    इस परीक्षण में आपके विचारों, भावनाओं, लक्षणों और व्यवहार पर चर्चा की जाती है। आपकी अनुमति से, इस परीक्षण में आपके परिवार या दोस्तों से भी बात की जा सकती है।

(और पढ़ें - एडीएचडी के लिए व्यवहार)

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) का इलाज - Obsessive-Compulsive Disorder Treatment in Hindi

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) का उपचार कैसे होता है?

आज तक ओसीडी को ठीक नहीं किया जा सकता है। लेकिन इलाज से लक्षणों को नियंत्रण में लाने में मदद मिल सकती है ताकि वे आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप न करें। कुछ लोगों को आजीवन इलाज की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें - डिमेंशिया के लक्षण)

इसके दो मुख्य इलाज हैं, मनोचिकित्सा और दवाएं। अक्सर, इन दोनों के संयोजन से उपचार सबसे प्रभावी होता है।

1. मनोचिकित्सा -
संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी), एक प्रकार की मनोचिकित्सा है जो ओसीडी से ग्रस्त कई लोगों के लिए प्रभावी है। सीबीटी थेरेपी का एक प्रकार एक्सपोजर और रिस्पांस प्रिवेंशन (ईआरपी) में धीरे-धीरे आपके लिए संवेदनशील वस्तु या आदत, जैसे गंदगी को आपके सामने लाया जाता है और आपको उससे होने वाली चिंता से निपटने के लिए स्वस्थ तरीके सिखाए जाते हैं। ईआरपी में प्रयास और अभ्यास की आवश्यकता होती है, लेकिन जब आप अपने जुनून और बाध्यता का प्रबंधन सीख जाते हैं, तो आप बेहतर जीवन का आनंद ले सकते हैं।

थेरेपी व्यक्तिगत, परिवार या समूह सत्रों में हो सकती है।

(और पढ़ें - पार्किंसन रोग का इलाज)

2. दवाएं -
कुछ मनोरोग दवाएं ओसीडी के जुनून और बाध्यता को नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं। सबसे अधिक, एंटीडिप्रेसेंट का उपयोग किया जाता है।

ऐसी कुछ दवाएं हैं -

  • 10 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए क्लोमीप्रारामाइन (अनाफ्राईल)।
  • 7 वर्ष और अधिक उम्र के वयस्कों और बच्चों के लिए फ्लूक्सैटिन (प्रोजैक)।
  • 8 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए फ्लुवाक्सामाइन।
  • केवल वयस्कों के लिए पेरोक्सेटाइन (पाक्सिल, पेक्सेवा)।
  • 6 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए सेरट्रलाइन (ज़ोलॉफ्ट)।

(और पढ़ें - डर का इलाज)

हालांकि, आपके डॉक्टर उपरोक्त दवाओं के अलावा अन्य एंटीडिप्रेसेंट और मनोरोग दवाओं को भी लिख सकते हैं।

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के जोखिम और जटिलताएं - Obsessive-Compulsive Disorder Risks & Complications in Hindi

मनोग्रसित बाध्यता विकार (ओसीडी) की क्या जटिलताएं होती हैं ?

ओसीडी से ग्रस्त व्यक्तियों को और समस्याएं भी हो सकती हैं। ऐसी कुछ समस्याएं निम्नलिखित हैं -

  1. काम, स्कूल या सामाजिक गतिविधियों में भाग लेने में असमर्थता।
  2. रिश्तों में समस्याएं। (और पढ़ें - रिश्ते को कैसे बेहतर बनाये)
  3. जीवन की खराब गुणवत्ता।
  4. चिंता विकार। (और पढ़ें - चिंता दूर करने के उपाय)
  5. डिप्रेशन। (और पढ़ें - डिप्रेशन दूर करने के उपाय)
  6. भोजन सम्बन्धी विकार।
  7. आत्मघाती विचार और व्यवहार।
  8. शराब या अन्य मादक द्रव्यों का सेवन। (और पढ़ें - शराब छुड़ाने के नुस्खे)
  9. बार-बार हाथ धोने से चर्मरोग।

(और पढ़ें - घबराहट रोकने के उपाय)

Dr. Anil Kumar

Dr. Anil Kumar

साइकेट्री
12 वर्षों का अनुभव

Dr. Ajay Kumar Vashishtha

Dr. Ajay Kumar Vashishtha

साइकेट्री
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Amar Golder

Dr. Amar Golder

साइकेट्री
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Arvind Gautam

Dr. Arvind Gautam

साइकेट्री
3 वर्षों का अनुभव

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) की दवा - Medicines for Obsessive Compulsive Disorder in Hindi

ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Pari Tablet खरीदें
Fludac खरीदें
Oleanz Plus खरीदें
Floxin खरीदें
Olipar Plus खरीदें
Floxiwave खरीदें
Oltha Plus खरीदें
Fludep (Cipla) खरीदें
Flugen (La Pharma) खरीदें
Flumusa Forte खरीदें
Flunam खरीदें
Flunat खरीदें
Fluon खरीदें
Fluon (Parry) खरीदें
Fluox खरीदें
Fluoxet खरीदें
Flutin खरीदें
Flutine खरीदें
Flutop खरीदें
Flux (Aarpik) खरीदें
Fluxater खरीदें
Fluze खरीदें
F Tin खरीदें
Hidac खरीदें
Inaday खरीदें
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें