myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

शरीर में जैसे ही गर्मी होती है, मुँह में छाले हो जाते हैं और अगर यह लंबे समय तक रहें तो मुँह में कैंसर का ख़तरा भी बढ़ जाता है। इसलिए ज़रूरी हैं कुछ घरेलू व आयुर्वेदिक इलाज - इसके लिए सबसे पहले सुबह उठकर खाली पेट पानी पिएं और गेहूँ का जवारा, एलोवेरा जूस व गिलोय का पानी पिएं। गर्म चीज़ें ना खाएँ, सलाद ज़्यादा खाएँ, अंकुरित अन्न का सेवन करें, पका कम खाएँ, कच्चा ज़्यादा खाया करें। नीला थोथा तवे पर डालकर सेक लेने पर थोड़ा भूरा होने पर एक चुटकी लें और पानी में मिला दें। उसे रुई में लेकर जहाँ द्दाला है, वहाँ लगा लें। उसके बाद तीन से पाँच मिनट जो पानी निकलेगा उसे निकलने दें। इससे सौ प्रतिशत छाला ठीक हो जाता है। - शीशम व बेल के पत्तों को पीसकर शरबत की तरह पीने से भी छालों में लाभ होता है। - प्राणायाम में विशेष रूप से - शीतली, शीतकारी, कपालभाती व अनुलोम विलोम प्राणायाम करने पर मुंह के छालों में राहत मिलती है। 

विस्तार में जानने के लिए अवश्य देखें यह वीडियो -

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ