myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

एड़ी में दर्द को आयुर्वेद में पर्श्‍णी शूज कहा जाता है। ये एक आम समस्‍या है जिसमें एड़ी की हड्डी में तेज दर्द उठता है। कुछ गंभीर मामलों में एड़ी के दर्द की वजह से खड़े होने या चलने में दिक्‍कत आती है। एड़ी में दर्द कई कारणों से हो सकता है जैसे कि एड़ी पर अत्‍यधिक दबाव, गलत फुटवियर पहनने और ऊबड़-खाबड़ जमीन पर नंगे पैर चलना। हालांकि, इसका संबंध ऊंची एड़ी के जूतों और प्लान्टर फेशिया (plantar fascia: ऊतक की एक सपाट पट्टी जो एड़ी की हड्डी को पैर के अंगूठे से जोड़ती है) से भी इसका संबंध होता है।

पर्श्‍णी शूल के इलाज की आयुवेर्दिक प्रक्रियाओं में अभ्‍यंग (तेल मालिश), स्‍वेदन (पसीना निकालने की विधि), विरेचन (दस्‍त की विधि), बस्‍ती (एनिमा), रक्‍तमोक्षण (खून निकालने की विधि), लेप (प्रभावित हिस्‍से पर लेप लगाने की विधि) और अग्‍नि कर्म (धातु से प्रभावित हिस्‍से को जलाना) शामिल हैं। एड़ी के दर्द के इलाज के लिए कुछ जड़ी बूटियों और औषधियों जैसे कि चित्रक, रसना, अरंडी, योगराज गुग्‍गुल एवं दशमूलारिष्‍ट का इस्‍तेमाल किया जाता है।

  1. एड़ी में दर्द की आयुर्वेदिक दवा और इलाज के डॉक्टर
Dr. Hariom Verma

Dr. Hariom Verma

आयुर्वेदा

 Dr. Sarita Singh

Dr. Sarita Singh

आयुर्वेदा
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Amit Kumar

Dr. Amit Kumar

आयुर्वेदा
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Parminder Singh

Dr. Parminder Singh

आयुर्वेदा
2 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें