myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

थकान (क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम; Chronic Fatigue Syndrome) एक ऐसा विकार है जिसका कारण अभी तक अज्ञात नहीं है। हालांकि, यह पहले के किसी संक्रमण से संबंधित हो सकता है। थकान ऐसी स्थिति है जो छह महीने या इससे अधिक समय के लिए बिना किसी स्पष्टीकरण के मौजूद रहती है और याददाश्त सम्बन्धी या एकाग्रता सम्बन्धी समस्याओं के साथ होती है। 2015 में, चिकित्सा संस्थान ने क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम के लिए एक नया नाम प्रस्तावित किया - सिस्टमिक श्रम असहिष्णुता रोग (एसईआईडी;  Systemic Exertion Intolerance Disease - SEID)।

  1. थकान के जोखिम कारक स्पष्ट नहीं हैं लेकिन यह अधिकांश 40-50 वर्ष की आयु की महिलाओं को होती है और पुरुषों की तुलना में महिलाओं में करीब चार गुना अधिक होती है।
  2. थकान ​​का निदान पांच से छह लक्षण के निदान से होता है, इसका अपना कोई निश्चित परीक्षण नहीं होता।
  3. थकान का कोई उपचार नहीं है लेकिन इसके लक्षणों का उपचार किया जाता है और इससे ग्रस्त लोगों को एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने की सलाह दी जाती है।

भारत में थकान की समस्या का प्रचलन

भरत में क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम हजारों लोगों को प्रभावित करता है, यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक प्रचलित है। एक भारतीय अध्ययन के मुताभिक, 12% भारतीय महिलाओं को क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम होने का अनुमान लगाया गया है। क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम शुरू होने की औसत उम्र 30-40 वर्ष है। यह कम आय वर्ग के लोगों में अधिक आम है।

  1. थकान के लक्षण - Fatigue Symptoms in Hindi
  2. थकान के कारण और जोखिम कारक - Fatigue Causes & Risks in Hindi
  3. थकान से बचाव - Prevention of Fatigue in Hindi
  4. थकान का परीक्षण - Diagnosis of Fatigue in Hindi
  5. थकान का इलाज - Fatigue Treatment in Hindi
  6. थकान की जटिलताएं - Fatigue Complications in Hindi
  7. थकान में परहेज़ - What to avoid during Fatigue in Hindi?
  8. थकान की दवा - Medicines for Fatigue in Hindi
  9. थकान की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Fatigue in Hindi
  10. थकान के डॉक्टर

थकान के लक्षण - Fatigue Symptoms in Hindi

थकान या क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम (सीएफएस) के लक्षण आमतौर पर अचानक शुरू होते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह धीरे-धीरे हफ्तों या महीनों में विकसित भी हो सकते हैं। इसके लक्षण प्रतिदिन बदल सकते हैं और उनका आना-जाना हो सकता है। थकान के बहुत लक्षण होते हैं लेकिन हर किसी को प्रभावित करने वाले कुछ लक्षण निम्नलिखित हैं -

  1. अत्यधिक शारीरिक थकान, मानसिक थकान या दोनों। यह स्थिर हो सकते हैं या बार-बार इनका आना जाना भी हो सकता है। यह आराम से ठीक नहीं होते। थकान इतनी गंभीर भी हो सकती है कि यह आपके दिनचर्या के काम और सामाजिक गतिविधियों में हस्तक्षेप करे।
  2. कुछ काम करने के बाद अस्वस्थ महसूस करना।
  3. नींद की समस्याएं।
  4. अलग-अलग या एक जगह दर्द होना।
  5. मांसपेशियों में दर्द
  6. जोड़ों का दर्द।
  7. सरदर्द

थकान से ग्रस्त व्यक्ति को निम्नलिखित लक्षण भी हो सकते हैं -

  1. एकाग्रता, याददाश्त की समस्या या सही शब्द सोच पाने में समस्याएं।
  2. प्रकाश, शोर या भावनाओं के प्रति बहुत संवेदनशील होना।
  3. भ्रम, सोचने की क्षमता में विलम्भ या गुमराह महसूस करना।
  4. मांसपेशिओं की कमज़ोरी या समन्वय की समस्याएं।

थकान के अलग-अलग लोगों में विभिन्न लक्षणों के संयोजन होते हैं जैसे -

  1. चक्कर आना, दिल की धड़कन में तेज़ी या काम करते समय सांस की तकलीफ।
  2. ज़्यादा पेशाब आना, मतली या इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (Irritable bowel syndrome)।
  3. शरीर के तापमान में गिरावट, हाथों का ठंडा होना और पैरों में पसीना आना।
  4. तनाव के दौरान बुरा महसूस करना।
  5. वज़न में या भूख लगने में बदलाव।

थकान के साथ अवसाद होना आम है और इससे थकान के लक्षण बद्द्तर हो सकते हैं। थकान से ऐसे लक्षण होते हैं जो कई अन्य बीमारियों के समान हैं विशेष रूप से शुरुआती दिनों में।

थकान के कारण और जोखिम कारक - Fatigue Causes & Risks in Hindi

थकान के कारण

सालों के अध्यन के बाद भी थकान का कोई ज्ञात कारण आज तक शोधकर्ताओं को नहीं मिल पाया है। हालांकि, लोगों में थकान के साथ कई बीमारियां देखी गयी हैं लेकिन इसके विकास के कारण का अभी तक पता नहीं चल पाया है। 
रोग नियंत्रण केंद्र (सीडीसी) से पता चलता है कि शोधकर्ता अभी भी थकान के कारणों की पहचान करने की कोशिश कर रहे हैं। अध्ययन किए गए कुछ कारकों में शामिल हैं -

  1. वायरल संक्रमण
    कुछ लोगों को वायरल संक्रमण होने के बाद थकान होती है, इसिलए शोधकर्ता इसे भी उन कारकों में से मानते हैं जिनसे थकान हो सकती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि एपस्टीन-बार वायरस, ह्यूमन हर्पीस वायरस 6 और माउस ल्यूकेमिया वायरस थकान के लिए ज़िम्मेदार हो सकते हैं। हालाँकि, अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।
     
  2. प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्याएं
    थकान से ग्रस्त लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली थोड़ी कमज़ोर हो जाती है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह कारण थकान होने के लिए पर्याप्त है या नहीं। (और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ और घरेलू उपाय)
  3. हार्मोन असंतुलन
    थकान से ग्रस्त लोगों को कभी-कभी हाइपोथेलेमस, पिट्यूटरी ग्रंथि या एड्रि‍नल ग्रंथि में उत्पन्न हार्मोन के असामान्य रक्त स्तरों का अनुभव होता है लेकिन इन असामान्यताओं का कारण अभी अज्ञात है।

थकान के जोखिम कारक 

थकान के जोखिम को बढ़ाने के कारक निम्नलिखित हैं -

  1. आयु - थकान किसी भी उम्र में हो सकती है लेकिन यह सबसे सामान्य रूप से 40 और 50 की उम्र के लोगों को प्रभावित करती है।
  2. लिंग - महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले थकान ज़्यादा होती है। लेकिन यह भी हो सकता है कि महिलाएं अपने लक्षणों के लिए डॉक्टर के पास अधिक जाती हैं।
  3. तनाव - तनाव के कारण भी थकान हो सकती है।

थकान से बचाव - Prevention of Fatigue in Hindi

वर्तमान में, थकान के स्पष्ट कारण ज्ञात न होने के कारण इसकी रोकथाम के तरीके भी नहीं मिल पाए हैं हालाँकि, चिकित्सक इससे बचने के लिए कुछ जीवनशैली के बदलाव करने का सुझाव देते हैं। जैसे -

  1. तनाव को कम करें - अत्यावश्यकता और भावनात्मक तनाव से बचने या उसे सीमित करने की योजना बनाएं। प्रत्येक दिन में कुछ समय आराम करें।
  2. नींद की आदतों में सुधार - प्रत्येक दिन एक ही समय पर सोएं व उठें और कैफीन, शराब व निकोटीन न लेने का प्रयास करें। (और पढ़ें - अनिद्रा के लक्षण, कारण और उपचार)
  3. गतिक्रम बनाए रखें - अपनी गतिविधिओं का एक स्तर बनाए रखें। बहुत अधिक गतिविधिओं के कारण आपको थकान हो सकती है।

थकान का परीक्षण - Diagnosis of Fatigue in Hindi

थकान का निदान करने के लिए कोई परीक्षण नहीं है, इसका निदान करने से पहले आपके डॉक्टर कई अन्य बीमारियों का परीक्षण करेंगे। जैसे -

  1. नींद के विकार - नींद के विकारों के कारण गंभीर थकान हो सकती है। नींद के परीक्षण यह निर्धारित कर सकते हैं कि बाकी विकारों जैसे स्लीप एपनिया, पैरों में बेचैनी महसूस होना या अनिद्रा के कारण आपकी नींद में समस्याएं तो नहीं आ रही हैं।
  2. चिकित्सा समस्याएं - थकान कई चिकित्सा स्थितियों में एक सामान्य लक्षण होता है, जैसे कि एनीमिया, मधुमेह और हाइपोथायरायडिज्म
  3. मानसिक स्वास्थ्य की समस्याएं - थकान कई मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कि अवसाद, चिंता, बायपोलर विकार और स्किज़ोफ्रेनिया (Schizophrenia) का लक्षण है। एक सलाहकार यह पता लगाने में मदद कर सकता है कि क्या इनमें से किसी एक समस्या से आपको थकान हो रही है या नहीं।

आपके डॉक्टर निम्नलिखित परीक्षण कर सकते हैं -

  1. थकावट के अन्य कारणों को हटाकर परीक्षण करने के लिए टेस्ट
    थायरॉयड, एड्रि‍नल ग्रंथि और लीवर के टेस्ट का उपयोग उन विकारों को हटाने के लिए किया जाता है जो थकान का कारण हो सकते हैं। थकान से ग्रस्त लोगों में, इन परीक्षणों के परिणाम सामान्य होने चाहिए।
     
  2. रक्त परीक्षण
    थकान से ग्रस्त लोगों के लिए सबसे तर्कयुक्त परीक्षण है एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटशन रेट परीक्षण (ESR: Erythrocyte Sedimentation Rate) (ईएसआर: गैर-थक्कों वाले रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं का माप), जो सूजन की अनुपस्थिति को दिखाता है। यदि ईएसआर उच्च या सामान्य श्रेणी से ज़्यादा है तो एक अन्य निदान की आवश्यकता हो सकती है। अगर रक्त परीक्षणों में कोई अन्य असामान्यताएं आती हैं, तो आपके डॉक्टर दूसरी परिस्थितयों के लिए परीक्षण शुरू कर सकते हैं।
     
  3. एंटीबॉडी परीक्षण
    आपके डॉक्टर आपको पहले कोई संक्रमण हुआ था या नहीं यह देखने के लिए एंटीबॉडी परीक्षण करवा सकते हैं।

थकान का इलाज - Fatigue Treatment in Hindi

थकान का उपचार निम्नलिखित तरीकों से किया जाता है -

दवाएं
थकान कई अलग-अलग तरीकों से लोगों को प्रभावित करती है, इसलिए आपका उपचार आपके विशेष लक्षणों के अनुसार होगा। लक्षणों से राहत के लिए कुछ दवाएं उपयोग की जा सकती हैं। जैसे -

  1. एंटीडिप्रेसन्ट दवाएं
    बहुत से लोग जो थकान से ग्रस्त होते हैं, उन्हें अवसाद भी होता है। अवसाद का इलाज करने से आपके लिए थकान से जुड़ी समस्याओं का सामना करना आसान हो सकता है। कुछ एंटीडिप्रेंटेंट्स की कम खुराक नींद में सुधार और दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है।
     
  2. नींद की गोलियां
    यदि घरेलू उपाय, जैसे कि कैफीन न लेना आपको रात में बेहतर आराम पाने में सहायता नहीं करते, तो आपके डॉक्टर आपको नींद की गोलियां दे सकते हैं।


थेरेपी

  1. गतिक्रम बनाए रखें
    अपनी गतिविधिओं का एक स्तर बनाए रखें। बहुत अधिक गतिविधिओं के कारण आपको थकान हो सकती है।
     
  2. क्रमिक व्यायाम
    दैनिक गतिविधि को सुधारने के लिए, एक क्रमिक व्यायाम प्रभावी और सुरक्षित उपचार है। एक थेरेपिस्ट यह निर्धारित करने में सहायता कर सकता है कि किस प्रकार के व्यायाम आपके लिए सर्वोत्तम हैं। धीरे-धीरे व्यायाम करना आपके लिए लाभकारी हो सकता है। यदि आप व्यायाम करने के अगले दिन थका हुआ महसूस करते हैं, तो आप बहुत ज़्यादा व्यायाम कर रहे हैं। आपकी ताकत और सहनशीलता में धीरे-धीरे सुधार होगा क्योंकि आप समय के साथ धीरे-धीरे अपने अभ्यास की तीव्रता में वृद्धि करेंगे। (और पढ़ें - व्यायाम के फायदे)
     
  3. मानसिक परामर्श
    एक सलाहकार से बात करने से आपको कुछ थकान से जुडी समस्याओं का सामना करने में मदद मिल सकती है।

थकान की जटिलताएं - Fatigue Complications in Hindi

थकान की संभावित जटिलताएं हैं -

  1. अवसाद या डिप्रेशन।
  2. सामाजिक अलगाव।
  3. जीवन शैली प्रतिबंध रोक।
  4. काम की अनुपस्थिति।

थकान में परहेज़ - What to avoid during Fatigue in Hindi?

थकान में निम्नलिखित चीज़ों का ध्यान रखना चाहिए -

  1. कैफीन
    कैफीन आपकी ऊर्जा को बढ़ाने का एक अच्छा तरीका है, यह आपको ऊर्जा ज़्यादा इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित कर सकता है। कुछ लोगों के लिए कैफीन की एक छोटी मात्रा ठीक हो सकती है लेकिन इसकी ज़्यादा मात्रा न लें और सुनिश्चित करें कि कैफीन का सेवन आपकी नींद को प्रभावित न करे।
     
  2. संसाधित खाद्य पदार्थ
    भारी मात्रा संसाधित में खाद्य पदार्थों में आमतौर पर दुसरे पदार्थों की तुलना में कम पोषक तत्व होते हैं। अपने शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पौधों, फलों, सब्जियों और साबुत अनाज पर निर्भर रहें।
     
  3. चीनी
    चीनी अस्थायी रूप से आपकी ऊर्जा में वृद्धि कर सकती है, लेकिन बाद में आपकी थकावट को बढ़ा सकती है।
     
  4. ज़्यादा परिश्रम से बचें
    जब आप स्वस्थ महसूस करते हैं तो ज़्यादा परिश्रम करने से थकान से ग्रस्त लोगों को फिर से अस्वस्थ महसूस हो सकता है।
     
  5. तनाव को कम करें
    तनाव में रहने से ऊर्जा में कमी आ सकती है और थकान हो सकती है।
     
  6. मोटापा
    मोटापे के कारण भी थकान हो सकती है, इसीलिए इसे संतुलन में रखने के लिए नियमित व्यायाम करें।
Dr.Priyanka Trimukhe

Dr.Priyanka Trimukhe

सामान्य चिकित्सा
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Nisarg Trivedi

Dr. Nisarg Trivedi

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr MD SHAMIM REYAZ

Dr MD SHAMIM REYAZ

सामान्य चिकित्सा
7 वर्षों का अनुभव

Dr. prabhat kumar

Dr. prabhat kumar

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

थकान की दवा - Medicines for Fatigue in Hindi

थकान के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Vasograin खरीदें
Neuroxetin खरीदें
ADEL 28 खरीदें
Rejunuron Dl खरीदें
ADEL 29 खरीदें
Dulane M खरीदें
SBL Arnica Montana Hair Oil खरीदें
Schwabe Sabal Pentarkan खरीदें
Dumore M खरीदें
ADEL 31 खरीदें
Duotop खरीदें
Duvanta Forte खरीदें
Duvanta Np खरीदें
ADEL 34 खरीदें
Duxet M खरीदें
ADEL 36 खरीदें
Duzela M खरीदें
Nerv Dx खरीदें

थकान की ओटीसी दवा - OTC medicines for Fatigue in Hindi

थकान के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine Name
Patanjali Ashvashila Capsule खरीदें
Zandu Alpitone Syrup खरीदें
Baidyanath Panchasava खरीदें
Zandu Sudarshan Tablet खरीदें
Aimil Amyron Syrup खरीदें
Zandu Kesari Jivan खरीदें

References

  1. American Academy of Family Physicians [Internet]. Leawood (KS); Fatigue: An Overview
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Symptoms of ME/CFS
  3. NHS Inform. Coping with fatigue. National health information service, Scotland. [internet].
  4. NHS Inform. Chronic fatigue syndrome (CFS). National health information service, Scotland. [internet].
  5. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Fatigue
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें