myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

बालों से ही आपकी खूबसूरती निखरती है, लेकिन बाल पतले होने की समस्या आजकल आम हो गई है। बहुत लोगों की यह शिकायत होती है कि उनके बाल दिन प्रतिदिन पतले होते जा रहे हैं। यह परेशानी कई महिलाओं व पुरुषों में देखने को मिलती है। ऐसा तब होता है जब आप बालो की देखभाल अच्छी तरह से नहीं कर पाते हैं। बाल पतले होने के कई कारण होते हैं उनमें से कुछ है, शारीरिक या भावनात्मक तनाव, हार्मोन असंतुलन, पोषण की कमी, प्रदूषण, एलर्जी आदि। इस लेख में हमने आपको बाल पतले होने के अन्य कारण भी बताए हैं जिन्हें जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।

(और पढ़ें - हेयर फॉल टिप्स)

तो चलिए इस लेख में हम आपको बताते हैं कि बाल पतले क्यों होते हैं -

  1. बाल पतले होने का कारण है तनाव - Baal patle hone ka karan hai tanav
  2. प्रोटीन की कमी से बाल पतले होते हैं - Protein ki kami se baal patle hote hai
  3. बालों के पतला होने का कारण है खून की कमी - Baalo ke patla hone ka karan hai khoon ki kami
  4. बाल पतले होते हैं स्वास्थ्य स्थिति के कारण - Baal patle hote hain swasthya sthiti ke karan
  5. बालों पर अत्यधिक प्रयोग है बाल पतले का कारण - Baal patle ho jate hain styling ki vajah se
  6. बालों की रोम बंद होने से बाल पतले हो जाते हैं - Baalo ki rom band hone se baal patle ho jate hai
  7. बाल पतले होने का कारण है गलत उत्पादों का इस्तेमाल - Baal patle hone ka karan hai galat utpado ka istemal
  8. बाल पतले हो जाते हैं थायराइड की समस्या से भी - Baal patle ho jate hai thyroid ki samasya se bhi
  9. डिलीवरी होना है बालों के पतले होने का कारण - Delivery hona hai balo ke patle hone ka karan
  10. अनुवांशिक है बालों के पतले होने का कारण - Anuvanshik hai balo ke patle hone ka karan
  11. बालों के पतले होने के अन्य कारण - Baalo ke patle hone ke any karan

तनाव आपके पूरे स्वास्थ्य पर असर डालता है। तनाव के कारण आपके बालों पर भी असर पड़ता है, इसकी वजह से आपके बाल पतले लगने लगते हैं। तनाव किसी भी तरह का हो सकता है जैसे घर में किसी की मृत्यु हो जाना, तलाक, रिश्तों में लड़ाई, नौकरी में दबाव आदि। इनकी वजह से तनाव होता है और ऐसे में आपके बाल घने होने की जगह पतले हो सकते हैं। तनाव के कारण आपकी नींद, डाइट और हार्मोन पर असर पड़ता है, इससे आपके बाल झड़ने लगते हैं। झड़ने के साथ-साथ बाल पतले भी होते चले जाते हैं। बाल पतले होने से रोकने के लिए तनाव को कम करें और ऐसी गतिविधियों में शामिल हो जिनसे आपका मूड ठीक हो। जितना आप अच्छा महसूस करेंगे उतना तेजी से आपके बालों की समस्या कम होगी।

(और पढ़ें - बाल कमजोर क्यों होते हैं)

शरीर में प्रोटीन की कमी से भी बाल पतले होते हैं। प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थ खाएं जो प्रोटीन से भरपूर हो। इसके अलावा अगर आप मांसाहारी हैं तो चिकन या मीट भी खा सकते हैं, क्योंकि इनमें भी प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। आप प्रोटीन और आयरन के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं। साथ ही प्रोटीन से समृद्ध खाद्य पदार्थ जैसे बीन्स, दाल, दूध, सोयाबीन, अंडा आदि भी खा सकते हैं।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के शैम्पू)

शरीर में खून की कमी से भी बाल पतले हो सकते हैं। एनीमिया की समस्या ज्यादातर महिलाओं में देखी जाती है, क्योंकि हर महीने होने वाले पीरियड्स के कारण शरीर से आयरन निकल जाता है। यही नहीं क्रोन की परेशानी में रोगी का शरीर आयरन को अवशोषित नहीं कर पाता जिसके कारण बाल पतले होने की समस्या होती है। आयरन का सबसे आम स्रोत है लाल मीट, लेकिन पालक, दाल, बीन्स आदि में भी आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा आप आयरन के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं, लेकिन सप्लीमेंट्स लेने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से बात जरूर कर लें।

(और पढ़ें - गंजापन दूर करने के उपाय)

 

बाल पतले होने की समस्या कई स्वास्थ्य स्थितियों पर निर्भर करती है। अगर आपको थायराइड या हृदय रोग है तो आपके बाल पतले हो सकते हैं। किसी भी बीमारी के इलाज के दौरान भी आपके बाल पतले या घुंघराले हो सकते हैं या फिर झड़ सकते हैं। कैंसर से पीड़ित मरीज के भी बाल झड़ना शुरू हो जाते हैं या इसकी वजह से उनके बाल पतले होते चले जाते हैं। हमारी सलाह है कि अगर आपके बाल अचानक से टूटना शुरू हो गए हैं या वे पतले होते चले जा रहे हैं तो अपने डॉक्टर से एक बार बात जरूर करें।

(और पढ़ें - बाल झड़ने के कारण)

अगर आपको रोजाना टाइट बाल बांधना बेहद पसंद है तो इस आदत को बदल दीजिए, क्योंकि इससे भी आपके बाल पतले हो सकते हैं। बाल पतले होने से आपको ट्रैक्शन एलोपेशिया (Traction alopecia) हो सकता है - यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें एक ही तरफ से बाल बनाने से उस जगह से बाल झड़ते जाते हैं। बाल पतले होने से रोकने के लिए एक ही तरफ से बाल बनाना छोड़ दें। बालों का स्टाइल रोजाना बदलें। अगर बाल पतले होने की समस्या तब भी नहीं रूकती है तो डर्मेटोलॉजिस्ट से एक बार बात जरूर करें। साथ ही ऐसे गर्म उपकरणों का इस्तेमाल न करें जिनसे आपके बालों को नुकसान पहुंच सकता है। गर्म उपकरणों का इस्तेमाल करने से आपके बाल घुंघराले हो सकते हैं और बीच से टूट सकते हैं, इसलिए इन उपकरणों का इस्तेमाल कभी-कभी करें। 

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के उपाय)

आप हफ्ते में कई बार बाल धोते हैं जिसकी वजह से बालों के रोम को काफी नुकसान पहुंचता है। इसके अलावा कई लोगों की सिर की त्वचा में सीबम का उत्पादन अधिक होता है, जिसकी वजह से आपकी सिर की त्वचा चिकनी होने लगती है। शैम्पू करने के दो दिन बाद ही बाल तैलीय लगने लगते हैं। बालों की रोम बंद होने की वजह से भी बाल पतले हो सकते हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए बालों को शैम्पू से हफ्ते में दो से तीन बार ही धोएं। अगर आप ज्यादा बार बालों को धोते हैं तो इससे भी आपके बालों की रोम को नुकसान पहुंच सकता हैं, इसलिए बालों को बहुत ज्यादा या बहुत कम न धोएं। इस बात का भी ध्यान रखें कि बालों के लिए मिलने वाले शैम्पू में कंडीशनर न हो। हमेशा कंडीशनर का इस्तेमाल अलग से करें।

(और पढ़ें - हेयर ट्रांसप्लांट क्या है)

बाल झड़ने से वो पतले होते चले जाते हैं और बाल पतले होने का कारण गलत उत्पादों का इस्तेमाल है। कभी भी ऐसे शैम्पू का इस्तेमाल न करें, जिनमें सल्फेट की मात्रा अधिक हो, क्योंकि केमिकल युक्त उत्पाद आपके बालों को रूखा बना देते हैं या बालों की जड़ों को कमजोर कर देते हैं। इस वजह से बाल झड़ने लग जाते है और फिर पतले होते चले जाते हैं। हमेशा सौम्य शैम्पू का इस्तेमाल करें और फिर एक बेहतरीन कंडीशनर को अपने बालों में लगाएं। जब आप कंडीशनर लगे बालों को पानी से धो लें, फिर आधे घंटे के लिए सिर की त्वचा को मसाज करें। इससे सिर की त्वचा में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा और बाल मजबूत बनेंगे।

(और पढ़ें - बालों को झड़ने से रोकने के लिए तेल)

हाइपोथायरायडिज्म बाल पतले होने का एक और मुख्य कारण है। आपका शरीर सही मात्रा में हॉर्मोन का उत्पादन नहीं कर पाता, जिसकी वजह से बालों को नुकसान पहुंचने लगता है। अगर आपको इनमें से किसी भी तरह के लक्षण दिखते हैं जैसे रूखी त्वचा, बालों का पतला होना या डिप्रेशन रहना आदि तो अपने डॉक्टर से जांच जरूर करवाएं।

(और पढ़ें - थायराइड कम करने के उपाय)

गर्भावस्था के दौरान बाल घने, चमकदार और मोटे हो जाते हैं, लेकिन डिलीवरी के बाद हॉर्मोन में बदलाव आ जाता है जिसकी वजह से बाल झड़ने लग जाते हैं और झड़ने की वजह से बाल पतले होने लगते हैं। डिलीवरी के तीन महीने बाद, हॉर्मोन में बदलाव के कारण बालों का बढ़ना बंद हो जाता है। जब आपके हॉर्मोन का स्तर संतुलित हो जाता है तो बालों की स्थिति पहले जैसी हो जाती है।

(और पढ़ें - डिलीवरी के बाद बाल झड़ने से रोकने के उपाय)

अगर आपके परिवार में पहले किसी को बाल पतले रहने की समस्या रही है तो यह समस्या आपको भी हो सकती है। अनुवांशिक रूप से बालों के झड़ने की समस्या पुरुषों में ज्यादा देखी जाती है। महिलाओं में भी कुछ प्रतिशत इसका प्रभाव देखा जाता है। अगर आपको पतले बाल रहने की समस्या है तो यह परेशानी अनुवांशिक भी हो सकती है। यह जानने के लिए सबसे पहले अपने डॉक्टर से एक बार बात जरूर कर लें और फिर बालों और सिर की त्वचा की देखभाल करने के लिए सही तरीका चुनें।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के लिए हेयर मास्क)

ऊपर बताए गए कारणों के अलावा इन कारणों की वजह से भी आपके बाल पतले हो सकते हैं जैसे गर्भ निरोधक गोलियां, अत्यधिक डायटिंग, ऑटोइम्‍यून डिजीज, बाल खींचने की आदत, धूम्रपान, अनिद्रा, पीसीओएस, हाल ही में की गयी सर्जरी, अत्यधिक मात्रा में विटामिन ए लेना, अचानक से वजन कम होना आदि। 

(और पढ़ें - बाल टूटने के कारण)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें